आईएएस अधिकारी कैसे बने? | how to become IAS officer in hindi?

सभी विद्यार्थियों आगे चलकर कुछ बनना चाहता है। कोई स्टूडेंट डॉक्टर तो कोई स्टूडेंट इंजीनियर तो कोई स्टूडेंट आगे चलकर आईएएस ऑफिसर बन कर अपने देश की सेवा करना चाहता है। 


How to become IAS officer

दोस्तों यदि आप भी हो आईएएस अधिकारी बनकर अपने देश की सेवा करना चाहते हैं तो आप को सिविल सर्विस परीक्षा दिलाना होगा तभी आप आईएएस अधिकारी बन सकते हैं। 

तो चलिए दोस्तों आज इसी आईएएस अधिकारी कैसे बने टॉपिक के बारे में जान लेते हैं। सबसे पहले यह जान लेते हैं कि यह आईएएस ऑफिसर बाद क्या होती है।

आईएस क्या है?

दोस्तों आईएएस फुल फॉर्म Indian administration service होता है इसका मतलब हिंदी में भारतीय प्रशासनिक सेवा हैं इस सर्विस के लिए हर साल सिविल सर्विस एग्जाम कंडक्ट कराया जाता है IAS, IRS, IPS, IFS.. इत्यादि सर्विस के लिए यूपीएससी एग्जाम दिला कर इन सभी सर्विस में कैंडिडेट को चुना जाता है। 

इस ऑफिसर बनने के लिए ज्यादातर विद्यार्थी पसंदीदा नौकरी होता है लेकिन उनमें से कुछ ही लोग यह मुकाम को पाते हैं। दोस्तों यदि आप बोलोगे कि यह किस पोस्ट पर रहते हैं तो यह डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट, कलेक्टर, कमिश्नर, अंडर सेक्रेट्री, डिप्टी सेक्रेटरी, इन सभी पद को आईएएस ऑफिसर को ही दी जाती है।

आईएएस ऑफिसर कैसे बने?

दोस्तों आईएएस ऑफिसर बनने के लिए आपको उसके पूरे क्राइटेरिया को पूरा करना होगा उसके criteria कुछ नहीं निम्नलिखित है:

  • आप भारतीय नागरिक होना चाहिए। 
  • AGE Limits कितनी होनी चाहिए?

1.general - (21 - 32 years )

2.OBC  -  (21- 35 years)

3.SC/ST - (21- 37 years)

पहले 12 वीं पास करें

12वीं क्लास को आप कोई भी विषय लेकर पढ़ाई पूरा कर सकते हैं। यदि आप गणित कॉमर्स एग्रीकल्चर कोई भी विषय लेकर आगे पढ़ाई कर सकते हैं। लेकिन इसका मेन प्रश्न आपको आर्ट्स सब्जेक्ट से ही पूछा जाएगा। तो मैं आपको 12वीं कक्षा में आर्ट्स विषय लेकर पढ़ाई करें और बारहवीं कक्षा को कला विषय से पाठ करें क्योंकि इस में जो पढे रहोगे वही आपको बाद में काम आएगा।

कॉलेज की पढ़ाई पूरा करें

दोस्तों कॉलेज की भी पढ़ाई वैसे ही करना होगा जैसे मैंने ऊपर बताया है क्योंकि यूपीएससी एग्जाम पास करके ही आप आईएएस ऑफिसर बनते हैं जो कि इस यूपीएससी एग्जाम को दिलाने के लिए ग्रेजुएशन होना बहुत ही जरूरी होता है लेकिन दोस्तों यहां पर भी मैं आपको कहूंगा कि यदि आप डॉक्टर इंजीनियर वकील या कोई और फील्ड में ग्रेजुएशन करते हैं तो भी आप इसी धाम को गिरा सकते हैं लेकिन फिर भी आपको आर्ट्स में जो भी पढ़े रहे होगे वही आपको आईएएस के परीक्षा में पूछा जाएगा दोस्तों यदि आप सच में आईएएस अधिकारी बनना चाहते हैं तो मैं आपको सुझाव देना चाहूंगा कि आप 11वीं ,12वीं कक्षा में आर्ट्स लेकर पढ़ाई करें और स्नातक की पढ़ाई B.A. से ही करें। 

UPSC EXAM पास करें

दोस्तों आईएएस ऑफिसर बनने के लिए आपको यूपीएससी सर्विस कमिशन के द्वारा सिविल सर्विस एग्जाम कंडक्ट कराया जाता है। तो आपको इस एग्जाम pass करना होगा। दोस्तों अब बात करते हैं यूपीएससी एग्जाम कितनी स्टेज पर होता है और इसमें आपको कैसा प्रश्न पूछा जाता है। और कितने नंबर का प्रश्न पूछा जाता है।

Prelims 

यह पर देखे तो प्री एग्जाम में 2 पेपर होते हैं। जिसमें का एक CSAT का पेपर होता है और एक General study का पेपर होता है। CSAT का मार्क्स आगे mains के लिए नहीं जुड़ेगा इसमें आपको 80 क्वेश्चन दिया जाएगा जिसे solve करके क्वालीफाई करना होता है। यह सिर्फ क्वालीफाइंग के लिए होता है। लेकिन general study मैं आपको 100 क्वेश्चन दिया जाएगा और इसका marks mains के लिए जुड़ेगा।

Mains

दोस्तों अब देखते हैं मेंस एग्जाम कैसे होता है तो दोस्त मैं आपको बता दूं कि mains एग्जाम में total 9 pepar होते हैं। 

जिसमें 2 पेपर होते हैं वह पेपर लैंग्वेज का होता है। जिसमें एक इंग्लिश का पेपर होता है और एक लोकल लैंग्वेज हिंदी का होता है। यह भी दो पेपर का marks आगे के लिए काउंट नहीं किया जाते हैं। 

लेकिन यह क्वालीफाइंग मार्क्स होते हैं। जिसमें का एक पेपर essay का होता है। चार पेपर आपका जर्नलिस्ट का होता है और 2 pepar optional होता है। दोस्तों आपके फाइनल मेरिट के नंबर mains और इंटरव्यू के मार्क्स को काउंट करके निकाला जाता है।

Interview 

जब आप सभी इंसान को पास करके क्षेत्र बैंक में आते हैं उसके बाद आपको इंटरव्यू में आपका टेस्ट लिया जाता है आप पास हो जाते हैं। 

उसके बाद आपका एग्जाम और इंटरव्यू कंप्लीट होने के बाद आप की ट्रेनिंग होती है फिर उसके बाद आपको भारत देश के कोई भी राज्य या कोई भी जगह भारत सरकार के द्वारा आपको सर्विस देने के लिए तैनात कर सकती हैं। 

अब बात करते हैं कि एक व्यक्ति कितने बार इस परीक्षा को दिला सकते हैं

  • जनरल कैटेगरी के व्यक्ति 6 बार इस परीक्षा को दिला सकते हैं।
  • ओबीसी कैटेगरी के व्यक्ति 9 बार इस परीक्षा को दिला सकते हैं।
  • ST और SC कैटेगरी के व्यक्ति के लिए कोई सीमा नहीं है वह कई बार अनलिमिटेड बार इस परीक्षा को दे सकते हैं।

आईएएस ऑफिसर को क्या क्या फैसिलिटी मिलती है

एक आईएएस अधिकारी की सैलरी सातवें वेतन आयोग के अनुसार 54000 से लेकर 150000 तक होती है। जैसे-जैसे इन का प्रमोशन होता है वैसे वैसे ही उनका सैलरी भी बढ़ते जाता है। इनका सैलरी का निर्धारण अलग-अलग संरचनाओं पर निर्भर करता है। 

नियर स्केल, सीनियर स्केल, सुपर टाइम स्केल वेतनमान में अलग-अलग वेतन बैंड होते हैं। आईएएस अधिकारी भी HRA मूल्य या अधिकारिक आवास का 40 परसेंट से हटकर होता है। 

साथ ही इन्हें DA, TA भी मिलता है। इसमें केबिनेट सेक्रेट्री, अपेक्स, सुपर टाइम स्केल के आधार पर सैलरी बढ़ती जाती है। 

तैनात होने वाले राज्य के राजधानी में VIP प्रतिबंधित क्षेत्रों में अधिकारियों को एक डुप्लेक्स बांग्ला दिया जाता है। अन्य जिला या अयुक्त मुख्यालय में पोस्टिंग होने के बावजूद भी निरपेक्ष रूप से यह लाभ प्राप्त किया जाता है।

सर्विस क्वार्टर

राज्य की राजधानी में आवास के अलावा जिले में या मुख्यालय में कुछ सर्विस क्वार्टर प्रदान किया जाता है।

परिवहन

एक आईएएस अधिकारी को किसी प्रयोजन हेतु आवाजाही के लिए कम से कम एक एवं अधिकतम 3 सरकारी वाहन चालक सहित आवंटित किए जाते हैं। 

शिवानी प्रकाश बस कम से कम एक एवं अधिकतम 3 सरकारी वाहन चालक सहित आवंटित किए जाते हैं। सभी गाड़ी नीली प्रकाश बत्ती से लैस होती है। अधिकारी जिनकी नियुक्ति मुख्य सचिव के स्केल पर होती है। 

उनको लाख प्रकाश बत्ती वाला वाहन आवंटित किए जाते हैं। आईएएस अधिकारी को आवंटित किए गए वाहन की इंधन एवं रखरखाव की मूल्य का वहन सरकार द्वारा किया जाता है।

सुरक्षा

आईएएस अधिकारी एवं उनके परिवारों को कड़ी सुरक्षा प्रदान की जाती है। सामान्यतः राज्य मुख्यालय में नियुक्त आईएएस अधिकारी को 3 होमगार्ड एवं दो बॉडीगार्ड आवंटित किए जाते हैं। उनके जीवन के लिए खतरा होने की स्थिति में उनकी सुरक्षा के लिए एसटीएफ कमांडो भी तैनात किया जा सकता है।

जिला मजिस्ट्रेट एवं आयुक्त के पद पर तैनात आईएएस अधिकारी के लिए पूरा पुलिस बल उनके अंतर्गत होता है और जरूरत पड़ने पर अपनी सुरक्षा अपने अनुसार बना सकते हैं।

बिल

निजी उपक्रम के कर्मचारियों के विपरीत आईएएस अधिकारी को आम घरेलू सेवा के लिए भुगतान नहीं करना पड़ता है। उदाहरण के लिए उनके कार्यालय आवास के लिए बिजली या तो पूरी तरह मुक्त या बहुत ही अधिक सब्सिडी पर उपलब्ध कराया जाता है। 

इसी तरह उन्हें मुफ्त टॉकटाइम एस एम एस और इंटरनेट सेवाओं के साथ तीन बीएसएनएल सिम कार्ड आवंटित किए जाते हैं। साथ ही साथ उन्हें बीएसएनल लैंडलाइन कनेक्शन और एक ब्रॉडबैंड कनेक्शन उपलब्ध कराया जाता है

यात्रा

अधिकारिक और अनाअधिकारिक यात्राओं के लिए आईएएस अधिकारी सर्किट हाउस सरकारी सरकारी बंगला या अलग-अलग राज्यों के विश्राम ग्रहों मे रियासतों दरो पर आवास सुविधा का आनंद लेते हैं। 

देश की राजधानी दिल्ली के किसी भी तरह के यात्रा पर आईएएस अधिकारी को संबंधित राज्य भवन में सभी सुविधाओं के साथ ठहरने की व्यवस्था होती है।

घरेलू स्टॉप

आईएएस अधिकारी को अधिकारीक आवास या सर्विस क्वार्टर के प्रति दिन के कार्य की देखरेख करने हेतु घरेलू स्टाफ प्रदान किया जाता है

अध्ययन अवकाश

एक अन्य सुविधाओं का आनंद जो एक आईएएस अधिकारी उठाता है। वह 2 से 4 वर्ष का अध्ययन अवकाश है इसके अंतर्गत आईएएस अधिकारी किसी प्रतिष्ठित विदेशी विश्वविद्यालय में अध्ययन करने के लिए 4 साल का अवकाश ले सकते हैं जिसके खर्चे का वाहन सरकार द्वारा किया जाता है।

अन्य सुविधाएं

एक आईएएस अधिकारी अन्य सुविधाएं पाते हैं जैसे कि PF, स्वास्थ्य सेवा, जीवन भर पेंशन इसके अलावा अन्य सेवा के लाभ उठाते हैं।

अनाअधिकारिक लाभ

इन सभी सुविधा के अलावा भारतीय प्रशासनिक सेवा के एक आईएएस अधिकारी को जिला या उनके अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत आयोजित सभी प्रमुख कार्यक्रमों मे आमंत्रित किया जाता है। जिसमें मुफ्त क्रिकेट टिकट के लिए पास और जिसमें अन्य संगीत और पार्टियां शामिल है। इस तरह से एक आईएएस अधिकारी को कई तरह से सेवा प्रदान किया जाता है दोस्तों इसके अलावा और अन्य आईएएस अधिकारियों को सेवा दिया जाता है।

आईएएस ऑफिसर का क्या क्या काम होता है?

सिविल सेवा के आवश्यक कार्य निम्नलिखित हैं

  1. नीतियों को तैयार करने लागू करने और समीक्षा करने सहित सरकार की मामलों को संभालना होता है।
  2. उपरोक्त कार्यो के लिए विभिन्न विभागों और निर्वाचित प्रतिनिधियों के साथ परामर्श करना होता है।
  3. विभिन्न योजनाओं के लिए आवंटित केंद्र सरकार की विभिन्न विधियों का प्रबंधन एवं संवितरण करना होता है।
  4. सरकार की विभिन्न योजनाओं और नीतियों के कार्यान्वयन का परीक्षण करना
  5. अपने अधिकार क्षेत्र में प्राकृतिक आपदाओं बड़ी दुर्घटनाओं और दंगों जैसी आपात स्थितियों का जवाब देना और राहत गतिविधियों का समन्वय करना।
 Also read 👇
Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad