सरकार का नया नियम : मोबाइल, लैपटॉप किसी कंपनी का हो सभी के लिए एक चार्जर होगा

जब आपके पास मोबाइल या लैपटॉप का चार्जर नहीं होता है। तो आप इधर उधर अपने मोबाइल को चार्जिंग करने के लिए चार्जर के लिए भटकते रहते हैं। 

ऐसे में आपको बहुत ही दिक्कत का सामना करना पड़ता है। और आप सोचते हैं कि काश एक ही चार्जर सभी डिवाइस के लिए होता है। तो कितना आसान होता है। 

सभी लोग अपने मोबाइल फोन को चार्जिंग करने के लिए समस्या का सामना करना पड़ता। तो दोस्तों यह समस्या बहुत ही जल्दी खत्म होने वाली है।

सरकार ने इस समस्या को खत्म करने के लिए कदम उठाने वाली है। 

जो सभी के समस्या सॉल्व हो जाएगी। चलिए दोस्तों इसी के लिए एक खबर लाया हूं तो इसे विस्तार से जानते हैं।

सरकार लैपटॉप, मोबाइल और अन्य दूसरे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के लिए कौन-से चार्जर लाने वाली है?

दूसरे देशों को देखते हुए भारत सरकार मोबाइल चार्जर पर एक बैठक 17 अगस्त को बुलाई है। जिसमें कई तरह के शामिल ऑफिसर होंगे। 

जैसे कि मोबाइल मिनिस्ट्री के ऑफिसर टेक इंडस्ट्री के केकई ऑफिसर और कई कंपनियां भी इसमें शामिल रहेगी। और इस पर पूरा एक मीटिंग होने के बाद इस पर निर्णय लिया जाएगा।

यूरोपीयन यूनियन कि सारे देश में टाइप सी चार्जर को सभी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे कि मोबाइल लैपटॉप और अन्य गैजेट के लिए कॉमन रखने का का नियम सभी कंपनियों के लिए बना दी गई है। 

हालांकि यह नियम सभी कंपनियों के लिए 2024 से शुरू हो जाएगी। अभी भारत में टाइप-सी (type-c)चार्जर सबसे ज्यादा सभी 4G मोबाइल पर और अन्य लैपटॉप पर उपयोग की जा रही है, उसके बाद माइक्रो यूएसबी चार्जर आती है, फिर उसके बाद सिर्फ एप्पल के सभी डिवाइसों में लाइटिंग चार्जर आती है।

सरकार कर रहे थे कि यदि यह नियम नहीं लगेगा तो अमेरिका और यूरोप के चाचा यहां पर डिलीवरी की जाएगी। जो कि भारत ऐसा होने नहीं देगा इसलिए इस नियम को आना और उचित रहेगा।

सभी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के लिए कॉमन चार्जर का प्रभाव:

सभी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के लिए एक ही चार्जर टाइप सी यूरोप और अमेरिका में इसका नियम सभी कंपनियों के नियम लग गई है। 

तब से ज्यादातर कंपनियों को इसका प्रभाव ज्यादा नहीं पड़ेगा शिवाय एप्पल के क्योंकि एप्पल अपने सभी डिवाइस जैसे कि आईफोन, एयरपोड और एप्पल मैकबुक के लिए लाइटनिंग चार्जर का उपयोग करता है।

जबकि सभी अन्य लैपटॉप बनाने वाली कंपनियां भी अलग-अलग तरह के चार्जर अपनी ग्राहक के लिए प्रदान करती है लेकिन इन कंपनियों को सुधार करने में ज्यादा दिक्कत नहीं होगी।

यदि भारत में या नियम बहुत ही जल्द लग जाएगी तो सभी यूजर को बहुत ही काफी आसानी से कहीं पर भी चार्जर यूज करने में परेशानी नहीं होगी।

जानिए (USB -C type) यूएसबी टाइप सी चार्जर क्या है?

दोस्तों usb-c क्या है? इसे जानने से पहले यूएसबी का फुल फॉर्म जान लेते हैं। यूएसबी का फुल फॉर्म "Universal Serial Bus" होता है। इसे यूएसबी टाइप सी के नाम से भी जाना जाता है।

इसका निर्माण USB Implementers Forum (USB-IF) के द्वारा किया गया है। Implementers Forum एक ग्रुप है जिसमें कई 700 से ज्यादा कंपनियां शामिल हैं। जैसे कि गूगल एप्पल डेल एचपी माइक्रोसॉफ्ट इन सभी कंपनियां के प्रोडक्ट में टाइप सी यूएसबी का उपयोग किया जाता है वह सभी कंपनियां इस फोरम ग्रुप में शामिल है।

USB-C आने के क्या-क्या फायदे हैं?

  1. USB-C को जैसे भी आप डिवाइस में लगा सकते हैं दूसरे cables को दूसरे तरीके से लगाने पर लागू नहीं होता था लेकिन इसे कैसे भी मनचाहे अपने डिवाइस पर plug कर सकते हैं।
  2. इसमें तेज गति के साथ डाटा ट्रांसफर कर सकते हैं। जैसे कि फोटो वीडियो ऑडियो या कोई भी फाइल को आप जल्दी ही इसके माध्यम से एक फोन से दूसरे डिवाइस जैसे कि लैपटॉप और अन्य लगता डिवाइस पर शेयर कर सकते हैं।
  3. इसमें 2 से 3 एंपियर तक के current को भी एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में शेयर कर सकते हैं।
  4. यदि यह नियम पूरे भारत पर लागू हो जाता है तो आप अपने मोबाइल पर लैपटॉप के चार्जर से भी या मोबाइल के चार्जर से भी चार्जिंग कर सकते हैं। 

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad