जानिए 10 बेहतरीन तरीके: बाइक की माइलेज कैसे बढ़ाए? How to increase a bike's mileage?

दोस्तों आज के जमाने में हमारे भारत देश में कुछ-कुछ आदमी को छोड़कर लगभग सभी के पास मोटरसाइकिल है। जो थोड़े से काम के लिए एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए भी यूज करते हैं। 

10 ways to increase a bike's mileage
लेकिन दोस्तों यह बात तो ठीक है लेकिन इसके पेट्रोलके भाव को देखते हुए ऐसा लग रहा है। कि पेट्रोल भरवाने के लिए लोगों का पसीना छूट रहे हैं।

और यदि आपके गाड़ी अच्छा से माइलेज नहीं दे तो आपके लिए दोहरा संकट खड़ा हो जाता है पहला की सरकार पेट्रोल के रेट को बढ़ाते चले जा रही है। 

और दूसरा आपकी गाड़ी का सही से माइलेज ना देना तो दोस्तों हम तो आपकी पेट्रोल के भाव की समस्या को कम तो नहीं कर सकते।

लेकिन आपकी गाड़ी को सही माइलेज दे इसका जानकारी आपको जरूर दे सकते हैं। तो दोस्तों आज के आर्टिकल पर हम जानेंगे की मोटरसाइकिल की माइलेज को कैसे बढ़ाएं ताकि पेट्रोल की कम खपत हो और उचित पेट्रोल पर उचित दूरी तय कर सके।

बाइक की माइलेज कैसे बढ़ाए? जानिए 10 बेहतरीन तरीके

दोस्तों मैं आपको बाइक की माइलेज कैसे बढ़ाए? और उनका कारण भी बताऊंगा कि क्यों गाड़ी की माइलेज कम हो जाती है तो दोस्तों आप इसे शुरू से लेकर अंत तक इस आर्टिकल को पढ़ते रहिए।

1.carburetor setting 

दोस्तों यदि आपकी गाड़ी में कार्बोरेटर है तो आप उसे समय-समय पर ऑटो सर्विस सेंटर पर जाकर चेक कराते रहिए दोस्तों यदि आप नहीं कराते हैं तो आप के कार्बोरेटर सही ढंग से काम करना बंद कर देते हैं।

दोस्तों कार्बोरेटर का काम हवा और पेट्रोल इंधन को मिक्स करके इंजन में भेजने का काम होता है यदि आपके कार्बोरेटर काम नहीं करता है। 

तो ज्यादा पेट्रोल और कम हवा मिक्स करके भेजेगा जिससे जितने आप अपने गाड़ी के टंकी में पेट्रोल भरवाए रहे होगे उसका पर्याप्त लाभ आप नहीं उठा पाओगे। 

2.टायर प्रेशर को चेक करना

दोस्तों ज्यादातर लोगों को पता नहीं होता कि टायर की प्रेशर कम होने से गाड़ी की माइलेज पर फर्क पड़ती है। 

दोस्तों आपको इसे एक सिंपल उदाहरण से समझा देता हूं कि जैसे आप हो कहीं जा रहे हो और आपका मोटरसाइकिल बीच रास्ते में ही पंचर हो जाता है।

तो आपका बाइक को धक्का मारते मारते हालात खराब हो जाता है क्योंकि दोस्तों पंचर गाड़ी को धक्का देने में ज्यादा पावर की जरूरत होती है। 

उसी तरह यदि आपकी बाइक के टायर में कम हवा है तो उसे ज्यादा पावर की जरूरत पड़ेगी। ऐसे में इंजन भी ज्यादा पावर प्रोड्यूस करने के लिए ज्यादा इंधन इंजन में जलेगी तो उतना ही ज्यादा इंधन की खपत करेगी। 

इससे आपका माइलेज कम हो जाएगा। तो दोस्तों इसीलिए मैं आपको कहना चाहूंगा कि आप कंपनी के द्वारा जितना कही गई है उतना ही अपनी गाड़ी के टायर में प्रेशर रखें।

3. Well oiled machine 

दोस्तों अब आते हैं वेल ऑयल मशीन होना दोस्तों जब हम जंग लगे हुए चैना को घुमाते हैं। 

तो हमें बहुत ज्यादा बल्कि जरूरत पड़ती है क्योंकि वह फ्रिक्शन लेस में घूमने में बाधा डालती है दोस्तों यदि oil लगा रहता है तो फ्रिक्शन लेस घूमती है।

इसीलिए अपनी मोटरसाइकिल कि चैन को अच्छी तरह से लुब्रिकेट करते रहिए।

4.weight Aerodynamics 

दोस्तों आप लोग आजकल देखते ही होंगे कि कई लोग अपने टू व्हीलर मोटरसाइकिल पर तीन,चार,पांच लोग बैठाकर चलाते रहते हैं। 

जबकि यह टू व्हीलर यातायात नियम के खिलाफ हैं टू व्हीलर बाइक में सिर्फ 2 लोग बैठ सकते हैं। पहला एक चलाने वाला और दूसरा एक उसके साथ (pavilion rider) में बैठता है।

इसीलिए ट्रैफिक डिपार्टमेंट इसके लिए नियम बनाई हुई है जो 2 से ज्यादा बैठते हैं उसके लिए हर व्यक्ति एक्स्ट्रा बैठने पर ₹1000 का जुर्माना लिया जाता है।

दोस्तों ज्यादा लोग बैठेंगे तो गाड़ी में ज्यादा weight भी बढ़ेगा इसे move कराने के लिए ज्यादा फोर्स की जरूरत पड़ती है। 

और ज्यादा फोर्स को ढोने के लिए ज्यादा पावर की जरूरत पड़ती है जो कि इंजन से आती है और ज्यादा पावर ज्यादा पेट्रोल खाती है इससे आपकी माइलेज में बहुत ज्यादा अंतर देखने को मिलेगा।

दोस्तों इसके अलावा बहुत से लोग अपने गाड़ी पर अलग से कस्टमाइज इलेक्ट्रिक पार्ट्स लगाते हैं जैसे कि हेड लाइट पर अलग-अलग तरह की लाइट और wheel पर रंग बिरंगी के लाइट लगवा लेते हैं।

जो कि दोस्तों आपकी बैटरी से जुड़ी हुई होती है और आपकी बैटरी पर चार्ज अल्टरनेटर से आती है और अल्टरनेटर इंजन से लेती है इस तरह से आप के इंजन पर ही प्रभाव डालती है।

बहुत से गाड़ी में साइड बॉक्स और क्रैश गार्ड लगे हुई दिखती है जो की गाड़ी पर एक्स्ट्रा लोड डालती है। इससे गाड़ी की Aerodynamics efficiency कम हो जाती है।

5.eager fingers

दोस्तों बहुत से लोग बाइक को चलाते समय बाएं हाथ को clutch पर और दाएं हाथ को आगे के ब्रेक पर रख कर चलाते हैं। दोस्तों यदि आप लंबे समय तक ऐसा करके चलाते हैं तो आपके बाइक के आगे wheel पर फ्रिक्शन मतलब घर्षण पैदा करेगा।

जिससे आप के बाइक पर प्रभाव डालेगा और और यदि आप दाएं हाथ से क्लच के लीवर को दबा के चलाते हैं तो clutch आधा छूटेगा और आपके एक इंजन पर असर डालेगा, 

इस वजह से आपके माइलेज कम हो जाएगा यदि आप ऐसा नहीं करते हैं और आप ब्रेक और क्लच लीवर को छोड़कर चलाते हैं तो आपकी गाड़ी अच्छी माइलेज देगी।

6.Rinding style 

गाड़ी को किस तरह से आप चलाते हैं यह सीधा गाड़ी के माइलेज पर प्रभाव डालती है। 

दोस्तों यदि आप अपने गाड़ी के माइलेज को बढ़ाना चाहते हैं तो मैं आपको कुछ जरूरी जानकारी बता देता हूं जिससे आप अपने गाड़ी के माइलेज को बढ़ा सकते हैं।

जब आप अपनी गाड़ी को चालू करते हो तो उस समय अचानक से accelerator मत देना क्योंकि उस समय गियर ratio कम होता है। 

लेकिन जब आप accelerator को बढ़ाते हैं तो इंजन के crankshaft का रोटेशन बढ़ जाती है। अक्सर यदि आप ऐसा लगातार करते हैं तो आपके गाड़ी की माइलेज कम होती दिखाई देती है।

जब आप गाड़ी के इंजन को चालू करके रोड पर ड्राइव करना शुरू करते हैं तो उस समय जल्दी-जल्दी गाड़ी के गियर को बढ़ाना नहीं चाहिए क्योंकि उस समय गाड़ी के इंजन कम RPM पर होता है।

जैसे-जैसे आप गाड़ी की स्पीड बढ़ाते जाते हो उस हिसाब से आप आप गाड़ी के गियर को भी बढ़ाते चले जाए इससे आपकी गाड़ी को कोई परेशानी नहीं होगी। 

दोस्तों हर गाड़ी के स्पीड मीटर पर रेड लाइन दिया रहता है उस पर लंबे समय तक गाड़ी नहीं चलाना चाहिए क्योंकि यदि आप ऐसा करते हैं तो आपके गाड़ी के माइलेज पर असर डालेगी।

दोस्तों जब आप गाड़ी को हाई स्पीड पर चला रहे हैं और अचानक से कुछ आपको सामने में दिखी जिस कारण से आपको गाड़ी को धीमी स्पीड पर चलाना पड़े तो अचानक से गाड़ी के गियर को टॉप से सबसे नीचे गियर पर नहीं करना चाहिए। 

क्योंकि इससे गाड़ी के माइलेज पर असर डालती है आपको दूर से ही गाड़ी के गियर को एक एक करके कम करना चाहिए।

7.Timely maintenance 

गाड़ी को सही समय पर सर इस होना बहुत ही जरूरी है क्योंकि गाड़ी के मेक निकल पार्ट्स लगातार चलते रहने पर धूल धाकड़ कीचड़ की वजह से गाड़ी के पार्ट्स पर गंदगी जम जाते हैं। इससे आपके गाड़ी के परफॉर्मेंस और एफिशिएंसी पर प्रभाव डालती है।

इस कारण से आप अपनी गाड़ी को सही समय पर जो कंपनी आपको कहीं गई है, उसके अनुसार सर्विसिंग जरूर करा लिया या आप जितने गाड़ी चलाते हो उसके हिसाब से भी करा सकते हैं।

8.Ride in economy 

दोस्तों लगभग सभी गाड़ी के स्पीड इंडिकेटर पर इकोनामिक(economy line) लाइन दिया रहता है। जो 30 से 50 स्पीड होता है। 

और यदि आप ज्यादा भीड़ वाले इलाके पर नहीं हैं आप खाली रोड पर हैं तो यदि आप इस पर गाड़ी चलाते हैं तो आप से गाड़ी को अच्छा माइलेज देगी।

9.Alternate products 

आप जो भी कंपनी के गाड़ी खरीदते हैं उस कंपनी के R&D डिपार्टमेंट गाड़ी के इंजन को गाड़ी के सभी पार्ट को ध्यान में देखते हुए गाड़ी के इंजन को बनाया हुआ होता है।

यदि आप उस गाड़ी में अलग साइज के पार्ट्स लगाते हैं जैसे कि कई लोग अपने गाड़ी पर चावड़ी टायर लगवा देता है जबकि उनके गाड़ी पर पतली टायर लगना चाहिए।

इस तरह से आप कहीं दूसरे जगह से अपने गाड़ी को अल्टरनेटिव प्रोडक्ट के साथ कस्टमाइज करते हैं इससे आपके गाड़ी के ऊपर जाता लोड पड़ती है। 

और आपके गाड़ी की माइलेज एफिशिएंसी भी कम हो जाती है जिससे गाड़ी के माइलेज में अंतर देखने को मिलेगी।

10.Good quality fuel 

दोस्तों पेट्रोल टंकी में सभी लोग पेट्रोल भरवा ते हैं लेकिन इसके अलावा बाहर में छोटे-छोटे दुकानों में भी गैलन से पेट्रोल खरीदकर छोटे-छोटे डिब्बों में पेट्रोल भरकर बेचते है।

जिससे कई बार पेट्रोल टंकी से खरीदकर पेट्रोल को ज्यादा मात्रा बनाकर बेचने के लिए उसमें कुछ अलग से और कुछ चीज मिलाकर बेचते हैं। जिसे आप अपने गाड़ी पर भरवा ते हैं तो आपके माइलेज में भी अंतर देखने को मिलेगी।

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad