बिना डरे किसी से बात कैसे करें? जानिए बेहतरीन 10 तरीके

10 ways to talk to anyone


एक समय की बात है एक गांव में सतीश नाम का लड़का रहता था और वह अपना प्राथमिक शिक्षा गांव से पूरी की थी जब वह और पढ़ने साथ में काम करने के लिए शहर गया तो वहां बहुत से शिक्षित लोग, कॉन्फिडेंट लोगो और अमीर लोगों के बीच में बात करने से डरने लगा। 

जिससे कुछ समय के लिए वह अपने रूम और अपने कॉलोनी से बाहर नहीं निकलता था। वहीं पर ही कुछ लोगों से बात करके ही रहता था और उन्हें ज्यादा लोगों से बात करने में बहुत ज्यादा डर लगने लगा था 

क्योंकि गांव में सब अपने-अपने थे तो उन लोगों से उन्हें डर नहीं लगता था लेकिन शहर में आप लोग जानते होंगे कि तरह-तरह के हजारों लोग अलग-अलग देश, राज्य, जिला से आते रहते हैं। 

इसलिए उसे वहां सभी लोगों से बात करने में या उनके साथ घुल मिलकर रहने में उन्हें अनकंफरटेबल लगता था लेकिन कुछ समय बाद उसने बहुत सारे तरीके अपनाकर सभी लोगों से अच्छे से बात करना सीख गया और उसे कुछ भी टॉपिक कहीं पर भी दे दो अच्छे से बात कर देता है। 

तो दोस्तों यदि आप भी उसी सतीश लड़के जैसे हो और आप भी जानना चाहते हो कि वह कैसे लोगों से बात करना सीखाना है तो दोस्तों आप इस आर्टिकल को शुरू से लेकर अंत तक पढ़ते रहिए।

10 तरीके लोगों से बात करने के लिए

दोस्तों मैं आपको कुछ तरीके बताने जा रहा हूं जिससे आप अपना कर अपनी रियल लाइफ में बात कर सकते हैं और अपनी कमजोरियों को दूर कर सकते हैं और अपने लाइफ में आगे बढ़ सकते हैं।

दोस्त सभी को अपने लाइफ में सभी को आगे बढ़ना है लेकिन लाइफ में बहुत सारी प्रॉब्लम होती रहती है उसी तरह यह भी एक problem है कि लोगों से कैसे बात करें?

1.The need of acceptance 

दोस्तों पहले के जमाने में क्या हुआ करता था कि हम लोग सभी अलग अलग ग्रुप बना कर रहते थे क्योंकि उस ग्रुप से ही हम लोग जानवरों को हमला से रोक सकते थे और जानवरों को शिकार कर खाते थे।

और उसी ग्रुप में ही रिलेशनशिप बनाकर रहते थे बच्चा पैदा करते थे और इस तरह से अपने वंश को आगे बढ़ाते थे इसी तरह से जिंदगी जिया करता था। 

उस समय के लोग यदि किसी भी एक व्यक्ति को उस ग्रुप से निकाल दिया करता था तो वह व्यक्ति अकेला रह नहीं सकता था ना जानवरों को हमला कर सकता था ना अपने आप को को दूसरे खतरनाक जानवरों से बचा पता था। 

उस समय ग्रुप में हमें स्वीकार करना हमारे लिए बहुत ज्यादा इंपोर्टेंस हुआ करता था। ऐसा बहुत सारे सिद्धांत कहते हैं कि हमारे दिमाग में ऐसी ही पैटर्न बन चुका था कि हमें कोई रिजेक्ट ना कर दें। 

लेकिन दोस्तों ओ पहले ऐसा हुआ करता था लेकिन अब बहुत ही ज्यादा समय आगे निकल चुका है और हर चीज बदल चुका है अब यदि आपको कोई एक्सेप्टेंस नहीं करता तो डरने की कोई बात नहीं है।

अब ऑनलाइन कहीं से भी कोई कोई भी कांटेक्ट कर सकते हैं और अपना परफॉर्मेंस दिखा सकते हैं या किसी से बात कर सकते हैं। आपको कोई भी एक्सेप्ट कर सकता है।

2. रिजेक्शन के साथ घुल मिल जाना

यदि आप जिंदगी में कुछ बनना चाहते हैं या तुम्हारा कोई गोल है उसे पाना चाहते हो और आप जब उसे पाने के लिए काम करते हो आपको कई बार रिजेक्शन मिलती होगी तो दोस्तों मैं आपको बताना चाहता हूं।

कि आपको जितना भी बार रिजेक्शन मिले आप उससे स्वीकार कर लेना चाहिए क्योंकि यह आपके गोल को प्राप्त करने करने में जो संघर्ष लगेगा उसी का एक भाग है कहने का मतलब है। 

कि यह आपके गोल का ही एक भाग है तो इसे आप गलत नजर से मत देखना दोस्तों आप इतने बार रिजेक्ट हो जाओ कि आपको कोई रिजेक्ट करें तो घबराना ना पड़े। 

दोस्तों एक चीज बताना चाहूंगा कि जिसे कोई एक व्यक्ति ने कहा था कि ट्रू कॉन्फिडेंस वह नहीं जो आप कहीं पर जाकर आपको कोई रिजेक्ट नहीं करता ट्रू कॉन्फिडेंस वह है जो जहां पर आप जाते हो 

और आपको वहां के सभी लोग रिजेक्ट कर देता है लेकिन फिर भी आप वह काम करते हो जिसमें आप को रिजेक्ट किया था यह होती है ट्रू कॉन्फिडेंस

दोस्तों यदि आपको लोगों से डर भगाना है तो आप को जितना हो सके लोगों से रिजेक्शन पाइए इससे आपका रिजेक्शन वाला खत्म हो जाएगा।

JK Rowling के बुक को पब्लिशर publish करने से मना करता था लेकिन 12वीं बार मना करने के बावजूद 13वी बार फिर से publish कराने के लिए रिक्वेस्ट करी थी।

तो उनका वह book पब्लिश हुआ तो उनका हैरी पॉटर बुक बहुत ज्यादा हिट हुई और बहुत ज्यादा चली। इस तरह से आपको भी हजारों रिजेक्शन को पार करके अपने मुकाम को पाना चाहिए।

3.paradox of vulnerability 

तो दोस्तों क्या होता है कि जब हम कभी पब्लिक में हम अपने कमजोरियों को बता देते हैं लेकिन उस समय हमें कोई डर नहीं लगता कि कोई हमें कैसे जज करेगा। और 

हमारे बारे में क्या सोचेगा लेकिन दोस्तों कुछ समय बाद जब घर में जाकर यह सोचते हैं कि बताने को तो बता दिया है जो बताना चाहिए था। 

लेकिन बाद में यह भी सोचते हैं कि हमारे बारे में लोग क्या सोचेंगे हमें किस तरह से जज करेंगे इस तरह के डर हमारे ऊपर हावी होने लगता है।

इसी तरह एक डेरिंग वेटिंग के auther अपने टिक टॉक पर भाषण देने के लिए गई थी वहां पर flow flow में अपने इस तरह के कमजोरियों को बता दी थी लेकिन घर में जाकर बहुत पछतावा हो रहा।

और अपने हस्बैंड को कहने लगे कि किसी भी तरह करके उसे पब्लिक होने से रोकिए लेकिन दोस्तों जब वह पब्लिश हुआ तो लाखों-करोड़ों लोग उनके भाषण को देखा और सभी लोग उनके इस काम को अप्रिशिएट भी किया। 

दोस्तों कभी-कभी हम लोग अपने बिजनेस को छुपाने की कोशिश करते हैं लेकिन यही हमें एक सच्चाई की ताकत को बताती है कि जो सच्चे रहते हैं वह कुछ भी कर सकता है।

4.people in the stand

दोस्तों जब आप कोई मैदान में कोई भी खेल को खेल रहे होते हैं तो बहुत से लोग आपके ऊपर कमेंट करते हैं कि आपने बहुत अच्छा क्यों नहीं खेला है और जब आप कोई बिजनेस करते हैं। 

तो बहुत से लोग बोलते हैं कि यह आइडिया नहीं चलेगी और उन्हें बीच में ही फ्लॉप हो जाएगी जब आप एक्टर बनना चाहते हो और कुछ एक्टिंग करते हो तो कोई लोग आपका मजाक उड़ाता है। 

तो दोस्तों इस तरह से लोग अपनी जगह पर हो कर आप के ऊपर कमेंट करते हैं लेकिन दोस्तों लोगों के बीच में होकर कुछ भी काम करना एक बहुत ही बड़ी बात होती है तो दोस्तों यदि आपको इस तरह से बहुत जने लोग बोलते हैं। 

तो मेरे बात को याद रखना कि ऐसा तभी बोला जाता है जब आप कोई बड़ा काम करना शुरू करते हो आप उन लोगों के जैसे people in the stand ग्रुप में बात नहीं करते हो आप के ऊपर दुनिया नजर रखती है। 

आप जब आप इन सभी रिजेक्शन को पार करके जब अपने मुकाम पर होते हो तब दुनिया आपके कदम चुनती है

5.power of hope

दोस्तों एक बात याद रखना है कि दुनिया की सबसे बड़ी चीज होती है hope मतलब उम्मीद आप जो भी काम कर रहे हैं। और आपको बार-बार रिजेक्शन मिल रही है तो आप एक उम्मीद रखे रहना क्योंकि दोस्तों यदि आपके अंदर उम्मीद नहीं रहती है। 

तो आप कुछ भी काम नहीं कर सकते क्योंकि जैसे आपकी माइंड में बात चलते रहता है कि मैं उस काम को नहीं कर सकता नहीं कर सकता तो आप सही में नहीं कर सकते हैं। 

लेकिन यदि आप अपने मन में यह कहते हैं कि मुझे उम्मीद है कि मैं वह काम कर सकता हूं वह काम कर सकता हूं तो आप सच में कर सकते हो क्योंकि उम्मीद हो ना किसी चीज को करने के लिए बहुत ज्यादा जरूरी होता है।

6.you don't need to be perfect 

दोस्तों जो लोग के पास कॉन्फिडेंट नहीं होता है वह लोग ऐसे सोचते हैं की मेरे पास बहुत सारे पैसे हो तो मैं बिजनेस करूंगा, मेरे पास बहुत सारे लोग होंगे तो मैं एक्टिंग करूंगा 

और मेरे पास बहुत अच्छा कैमरा होगा तभी मैं यूट्यूब के लिए वीडियो बनाऊंगा मैं परफेक्ट हो जाऊंगा तब मैं लोगों से बात करूंगा इस तरह से बहुत जने लोग यह सोचते हैं कि मैं परफेक्ट हो जाऊंगा तो मैं वह करूंगा। 

दोस्तों मैं आपको एक चीज बताना चाहूंगा कि इस दुनिया में कोई भी चीज परफेक्ट नहीं है इसलिए आपको परफेक्ट बनने की जरूरत नहीं है।

आप जैसे भी हो वहीं से आप शुरू करिए आप अपने पहले कदम से दूसरे कदम को बेहतर बनाते चलिए ऐसे ही अपनी जिंदगी में आगे बढ़ते रहिए।

7. ज्यादा ज्यादा लोगों से बात करने की अभ्यास करें

दोस्तों यदि आपको कॉन्फिडेंस बढ़ाना है तो आपको ज्यादा से ज्यादा लोगों से बात करने की जरूरत होगी क्योंकि दोस्तों अलग-अलग लोगों से अलग-अलग बात करना होता है। 

दोस्तों शुरुआत में आपके पास कॉन्फिडेंस नहीं होगी लेकिन जब आपके पास कुछ नहीं होता उसमें आप कुछ करते हो जब कामयाब हो जाते हो तो उस समय जो आपके पास कॉन्फिडेंस होती है वह true कॉन्फिडेंस होता है।

बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो लोगों से बात नहीं कर पाते तो वह लोग कहते हैं कि मैं क्या बात करूंगा तो मैं उन्हे बताना चाहूंगा कि आप उन लोगों जीन से आप बात करना चाहते हैं? 

तो आप close ended क्वेश्चन मत पूछिए मतलब 1-2 वर्ड में जवाब पाने वाले क्वेश्चन ना पूछे यदि आप किसी से बात करते हैं और यह पूछते हैं कि आपका क्या नाम है? तो वह 1- 2 वर्ड में नाम बता कर conversation खत्म कर देगा। 

लेकिन आप open ended सवाल करते हैं मतलब उसके बारे में पूछेंगे कि अभी आपका समय कैसा चल रहा है तो यह थोड़ा 2-3 सेंटेंस में बताने वाले प्रश्न है जिससे आप दोनों के बीच में कन्वर्सेशन थोड़ी ज्यादा लंबी चलेगी

इस तरह से आप कोई भी अनजान लोगों से बात करते हो तो आप इस तरह से प्रश्न करके आप उनसे बात करके अपनी कन्वरसेशन प्रैक्टिस कर सकते हो।

8.parronting करना

दोस्ती यदि आपको कुछ बात करने के लिए टॉपिक नहीं है तो आप दूसरों के सामने सिर्फ parronting करें मतलब आप किसी की कॉपी कर उसके सामने बोलते रहिए।

जिससे वह भी आपको सच मानकर आपसे बात करने लगेगा और इस तरह से आपका conversation लंबा चलता रहेगा।

9.Taking a part-time job

दोस्तों यदि आपके पास कॉन्फिडेंस नहीं है किसी से बात करने के लिए तो दोस्तों आप एक पार्ट टाइम जॉब करिए तुम्हारे जैसे ही एक लड़का भी आपके जैसा दूसरों से बात नहीं कर सकता था। 

तो उसने एक पार्ट टाइम वेटर का जाॅब शुरू किया। उसे जो भी रेस्टोरेंट में कहने के लिए कहां गया था मतलब रटी रटाई बात उसे याद थे जो उनसे बात करना पड़ता ही था। 

इसमें वह डर से भाग कर जा ही नहीं सकते थे उसे जो आता था वैसे ही बात करता था जिससे वह उसमें एक्सपर्ट बन गया इस तरह से उसे और अलग तरह से काम किया। 

इस तरह से अभी कोई सेल्समैन की पार्ट टाइम जॉब ज्वाइन कर लीजिए जैसे आप जो भी बात बोली गई तो उसे ही बोलने पड़ती है से आप की प्रैक्टिस होगी और आपने बोलने में एक्सपर्ट बन जाएंगे।

10.Everyone is insecure 

दुनिया में लगभग सभी लोग insecure हैं कहने का मतलब है कि सभी लोग को ऐसा लगता है कि मैं ही दूसरों से दिखने में या कोई भी दूसरे फैक्टर में कम हूं 

और कोई अपने बारे में सोचता है कि सभी लोग मुझे ही देख रहा है लेकिन जब भी ऐसा नहीं होता है सब अपने-अपने ऊपर ही सोचता रहता है कि मैं क्या करूं कैसे करूं कभी कभार लोग एक दूसरे के ऊपर नजर रखते हैं।

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad