हवाई जहाज कितनी ऊंचाई पर उड़ते हैं| how altitude can aeroplane fly in the sky?

दोस्तों यदि आप कभी ना कभी एरोप्लेन देखा होगा या आप कभी एरोप्लेन से यात्रा किया होगा तब आपको बहुत मजा आया होगा। 

लेकिन आपके मन में बहुत सारे सवाल भी आए हुए क्योंकि दोस्तों यह सवाल तभी आता है जब आप पहली बार हवाई जहाज देखते होंगे या पहली बार हवाई यात्रा से कहीं पर गए होंगे दोस्तों आपके मन में एक सवाल तो जरूर आया होगा। 

कि हवाई जहाज कितनी ऊंचाई पर उड़ती है और यह कितना बड़ा होता है यह कितने इंधन जलाता है और 1 सीटर इंजन से कितने किलोमीटर दूरी तय करता है। 

ऐसे बहुत सारे सवाल आपके मन में आया होगा तो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से यह जानेंगे कि इतनी ऊंचाई पर हवाई जहाज क्यों उड़ते हैं। 

और वहां पर उन्हें के क्या फायदे हैं तो चलिए दोस्तों ज्यादा समय ना वेस्ट करते हुये ये जान लेते हैं। 

हवाई जहाज कितनी ऊंचाई पर उड़ते हैं?

दोस्तों जब भी आप हवाई जहाज देखते हैं तो आपको सिर्फ रहने पर भी हवाई जहाज आते जाते देखते रहते हैं लेकिन अपनी कभी न कभी सोचा होगा कि यह थोड़ी दूर उड़ने के बाद दिखाई नहीं देता।

जबकि हेलीकॉप्टर उड़ते हैं तो नीचे धरती पर सभी लोग आराम से देख लेते हैं और आपने बचपन में घर से निकल कर हेलीकॉप्टर की आवाज को सुनकर देखने के लिए बहुत ज्यादा उत्साहित रहते थे।

लेकिन हवाई जहाज जैसे रनवे से उड़कर ऊपर जाती हैं तो वह क्यों नहीं दिखता है तो दोस्तों यह इसे नहीं दिखता क्योंकि सामान्यतः जिसमें पैसेंजर हवाई जहाज 33000 से लेकर 42000 के feet में आसमान में उड़ता है।

जबकि aircraft जो डिफेंस के क्षेत्र में उपयोग किया जाता है यह 35000 से लेकर 36000 फिट की ऊंचाई पर उड़ते रहता है। 


यही कारण है कि हम लोग इतनी ऊंचाई पर उड़ते हुए हवाई जहाज को नहीं देख सकते और एक कारण और है के ऊपर कोहरा बादल में छाया रहता है ऊपर को देखने नहीं देता है।

हवाई जहाज 33000 और 42000 फीट के बीच के ऊंचाई पर क्यों उड़ता है। 

दोस्तों आप लोग जान गए होंगे कि इतनी ऊंचाई पर हवाई जहाज उड़ता हैं लेकिन दोस्तों आप नहीं जानते कि यह हवाई जहाज इतनी ऊंचाई पर क्यों उड़ता है? 

तो चलिए दोस्तों इसे भी जान लेते हैं कि इतनी ऊंचाई पर हवाई जहाज क्यों उड़ता है?

Fuel efficiency: 

दोस्तों इस ऊंचाई पर हवा के घनत्व धरती के मुकाबले कम होती है जिसे कारण हवाई जहाज हवा को चीरते हुए अपनी स्पीड को बढ़ा सकते हैं और अपनी स्पीड को मेंटेन रखने के लिए ठीक रहता है।

क्योंकि ऊपर कम डेंसिटी की हवा होती है तो हवा हवाई जहाज को काम रजिस्ट करती है जिससे हवाई जहाज को कम बल लगाने की जरूरत पड़ती है इससे इंधन की बचत होती है।

यातायात और खतरों से बचना: 

दोस्तों इस ऊंचाई पर सिर्फ एरोप्लेन और कुछ डिफेंस एयरक्राफ्ट उड़ सकती है जबकि इस ऊंचाई पर ना तो हेलीकॉप्टर उड़ती है, और ना ही ड्रोन उड़ते हैं, 

और ना ही चिड़िया यहां पर उड़ते रहते हैं, और अन्य चीजें भी जैसे की बलून और कुछ भी नहीं होती है यही कारण है कि यह इतना ऊंचाई साफ होती है जिस से टकराने की कोई खतरा नहीं होती है। 

इसीलिए हवाई जहाज यहां पर उड़ कर एक जगह से दूसरी जगह ट्रैवल करते हैं।

मौसम के कारण:

दोस्तों 6 किलोमीटर से लेकर 20 किलोमीटर छोभ मंडल होती हैं जिसमें धूल कंकड़ और आंधी तूफान बिजली बरसात जितने भी मौसम होती हैं बदलती है यह सभी इसी छोभ मंडल में होती है। 

जबकि समताप मंडल 20 किलोमीटर से लेकर 50 किलोमीटर के बीच को समताप मंडल कहते हैं इसी मंडल में हवाई जहाज उड़ती है। 

जिसमें यह मौसमी घटना नहीं होती है।
दोस्तों यही कारण है कि इस मंडल में हवाई जहाज को नहीं उड़ाई जाती है 

आपातकालीन: 

दोस्ती यदि कम ऊंचाई पर हवाई जहाज उड़ रही है तो अचानक से कुछ समस्या आ गई तो पायलटों से कम ऊंचाई के होने के कारण दूसरे जगह लैंड नहीं करा पाएंगे जहां पर रेलवे है क्योंकि उसे बहुत ही कम समय मिलेगी।

कम होने के कारण यदि बहुत ही ज्यादा ऊंचा पर उड़ रहा है तो उसे इस समस्या को सुलझा कर दूसरे जगह यह आपातकालीन जरूरी है। 

लैंड कराने के लिए तो उसे आराम से runway मिल जाएगी। यही कारण है कि ज्यादा ऊंचाई पर वायरस को उड़ाई जाती है।

हवाई जहाज की स्पीड कितनी होती है?

दोस्तों हवाई जहाज की स्पीड हमारे आम vehicle जैसे की मोटरसाइकिल बस कार इत्यादि इन सभी की स्पीड 100 से लेकर 500 तक होती है जबकि विमान की स्पीड इन सभी से बहुत ज्यादा स्पीड होती हैं। भारत की आधुनिक हवाई जहाज की स्पीड 900 किलोमीटर प्रति घंटा के क्रूजिंग गति से उड़ता है।

जबकि सामान्य पैसेंजर हवाई जहाज में रोज हजारों लोग यात्रा करते हैं एक देश से दूसरे देश या एक राज्य से दूसरे राज्य और हवाई विमान की स्पीड 885 – 935 km/h होती है।

दोस्तों पूरी दुनिया के सबसे ज्यादा अमेरिकी SR-71 Blackbird का स्पीड है जिसका स्पीड 3,529.6 किमी / घंटा है। मतलब यह विमान 1 लीटर ईंधन में इंधन 0.8 किलोमीटर दूरी तय करता है।

विमान 12 घंटे यात्रा के दौरान 172800 लीटर का ईंधन खर्च करता है। बोईंग 747 विमान में लगभग 500 यात्री सफर कर सकते हैं।

हवाई जहाज किस तेल से चलता है?

दोस्तों यदि आप लोग सोच रहे होंगे कि मोटरसाइकिल बस, car और अन्य गाड़ी यह सभी पेट्रोल डीजल से चलते हैं। 

वैसे ही हवाई जहाज भी चलता होगा तो यह बिल्कुल गलत है दोस्त मैं आपको बता दूं कि हवाई जहाज Aviation kerosene नामक ईंधन से चलती है। 

जिसे QAV-1 के नाम से भी जाना जाता है यह एरोप्लेन हेलीकॉप्टर जैसे अन्य विमान पर उपयोग किया जाता है।

हवाई जहाज 1 लीटर में कितनी दूरी चलता है?

दोस्तों हम सभी लोग जानते हैं कि हमारे सामान्य मोटरसाइकिल और बस ट्रक इत्यादि का माइलेज 10 km/h से लेकर 70 km/h तक होती है। 

जबकि हवाई जहाज इतना बड़ा होने के कारण उसकी माइलेज बहुत ही कम होती है, क्योंकि जितना बड़ा इंजन होता है उतना ही बड़ा उतना ही ज्यादा इंजन इंधन की खपत करता है।

चलिए इसे एक उदाहरण से जान लेते हैं हमारे भारत देश में कमर्शियल विमान है जिसका नाम boing 747 है यह 
विमान प्रति सेकंड 4 लीटर ईंधन की खपत करता है। मतलब 1 मिनट यात्रा के दौरान में 240 लीटर ईंधन की खपत कर देती है।

बोइंग के वेबसाइट के अनुसार बोइंग 747 विमान 5 गैलन प्रति मील (लगभग) इंधन खर्च करता है।

मतलब boing 747 विमान 1 लीटर दूरी तय करने के लिए 12 लीटर ईंधन की खपत करती है।
Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad