जानिए प्यार अंधा क्यों होता है? और प्यार में लोग अंधे क्यों हो जाते हैं?

Blind love

दोस्तों जब आपकी आसपास जब कोई लोग कुछ अलग काम करते हैं जैसे कि एक छोटी लड़की से बहुत ज्यादा उम्र के लड़की उसे प्यार करते हैं।

 

और उससे शादी कर लेते हैं या उसके जस्ट उल्टा कोई लड़की अपने से बहुत ही छोटे लड़के से प्यार कर बैठती है।

या जब लड़का लड़की से शादी करता या लड़की लड़की शादी करती है। तो आपको आश्चर्यजनक लगता है तब आप कहते हैं।
कि सच में प्यार अंधा होता है और इसी बात को आगे बढ़ाते हुए हम लोग ऐसी एक चीज कह सकते हैं। कुछ लोग इतना भी काम कर बैठते हैं जो रिश्तो को प्यार में बदल देते हैं।
जिसे लोग सोचते नहीं रहते हैं जैसे कि एक बाप अपनी बेटी से प्यार कर बैठते हैं इस तरह से आप अपने समाज में अपने आसपास की जगह में सुनते ही होंगे तो दोस्तो आप को सच में प्यार करना लगता ही होगा।
और बहुत से लोगों जब एक दूसरे से प्यार करते हुए इतनी गहरी प्यार में डूब जाते हैं कि वह ऐसे ऐसे काम करते चले जाते हैं।
जो वास्तविक दुनिया से अलग होते हैं तो दोस्तों आज हम जानेंगे कि अंधा प्यार क्या है? और अंधा प्यार क्यों होता है? आज इसके पीछे क्या सच्चाई है इन सब के बारे में हम लोग इस आर्टिकल के माध्यम से जानेंगे।

जानिए है क्या प्यार सच में अंधा होता है?

दोस्तों जब हम किसी से अंधाधुन प्यार करते हैं तो उसके सही और गलत को देखने को तैयार नहीं होते हैं क्योंकि हमें सिर्फ उसकी अच्छाई ही दिखाई देती है।
दोस्तों जब हम किसी से शुरुआती प्यार करते हैं तो हम उस व्यक्ति के चरित्र इस तरह से देखते हैं जैसे हमने जिंदगी में कभी नहीं देखा है।
यही कारण है कि हम लोग उस व्यक्ति को इस तरह से देखभाल करके उनके साथ समय व्यतीत करते हैं जो कई बार वास्तविक दुनिया तरीके से अलग होती है।
कुछ ऐसे होती है जिसे हम लोग एक सामान्य जिंदगी में उसे अपनी जिंदगी से दूर हटाते रहते हैं लेकिन जब हम लोग प्यार में पड़ जाते हैं तो उस व्यक्ति के जो भी चीज हमें पसंद नहीं आती उसे भी हम लोग प्यार करने लगते हैं।
जब किसी से अंधा प्यार होता है तब वह व्यक्ति अपने अवधारणा को ही बदल देते हैं और वह उसके हैं जो भी नकारात्मक को देखते हैं तो उसके लिए फीकी पड़ने लगते हैं।
जब कोई व्यक्ति किसी से प्यार करता है और उस व्यक्ति की प्यार की खिलाफ पूरी दुनिया खड़ी हो जाती है तब भी उसके लिए वह सब कुछ बन जाता है।
वह आदमी उसे इस तरह से यादव बना देते हैं जैसे कि कुछ भी गलत नहीं करता, और कुछ साथी को उसे यह दुनिया की सत्य, पर्फेक्ट इंसान लगने लगता है।

प्यार अंधा होता है” यह वाक्यांश कहां से कहना शुरू हुआ है?

प्यार अंधा होता है इसे अंग्रेजी लेखकों ने सन 1400 के आसपास में अपने कई लेखन कार्य में किया गया था। उसके बाद धीरे-धीरे समय बदलते गया हूं और कुछ समय बाद लूटो और प्लूटस जैसे लोग नहीं है इसका इस्तेमाल पुस्तक में किया है।
अंग्रेजी नाटककार विलियम शेक्सपियर ने भी अपने नाटक नाटक में चीनी प्यार अंधा होता है इस शब्द को कई सारी नाटक जैसे कि वेरोना के टू जेंटलमेन, हेनरी वी इत्यादि नाटक में किया है।

Leave a Comment